NEFT RTGS IMPS UPI in hindi

NEFT RTGS IMPS UPI Explain in Hindi – जिंदगी की जरूरतों को पूरा करने के लिए, आए दिन लोगों को पैसे ट्रांसफर करने की जरूरत पड़ती रहती है। एक समय में तो ऐसा होता था, कि हम किसी को अगर पैसे भेजते थे तो हमें बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ जाता था। छोटी सी रकम भेजने के लिए भी हमें बैंक में जाकर घंटों तक लाइन में खड़ा होना पड़ता था। उस समय हमारे पास, तुरंत पैसे भेजने के लिए बैंक के अलावा कोई दूसरा सरल माध्यम नहीं था।

लेकिन समय के साथ-साथ विज्ञान ने बहुत तरक्की की ओर पैसे ट्रांसफर करने के लिए कई सारे Source पैदा किए गए। आज हमारे पास Money Transfer करने के लिए कई सारे Options मौजूद हैं। आज की डेट में अगर हम चाहे तो हम घर बैठे बैठे ही फोन की मदद से मिनटों में बड़ी से बड़ी रकम transfer कर सकते हैं।

भारत में जिस तरह से ऑनलाइन users संख्या बढ़ रही है, इसे नज़र अंदाज नहीं किया जा सकता। ज्यादातर लोग Digital transaction को Prefer करते हैं। सभी बैंकों ने अपने ग्राहकों की जरूरतों और सुविधाओं को देखते हुए, मनी ट्रांसफर के बहुत सारे Options निकाले हैं।

NEFT RTGS IMPS UPI Explain in Hindi

अगर Present की बात करें, तो इंडिया में “NEFT“, “RTGS“, “IMPS“, “UPI” इत्यादि के माध्यम से पैसे ट्रांसफर किए जाते हैं। अगर NEFT और RTGS की बात करें, तो यह दो सुविधा तो पहले से ही उपलब्ध थी लेकिन IMPS को सन 2010 में और इसके लॉन्च होने के 5 साल बाद UPI को 2016 में लॉन्च किया गया। 8 नवंबर 2016 में नरेंद्र मोदी जी ने जब भारत में नोटबंदी करवाई, उसके बाद से ही online payment methods का इस्तेमाल काफी ज्यादा Increase होते हुए दिखाई दिया। आज हम आपको ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करने के जो कई सारे माध्यम है, उन सबके बारे में बताएंगे।

1. NEFT क्या है? What is NEFT in hindi

NEFT का फुल फॉर्म होता है, नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (National Electronic Fund Transfer)

NEFT मनी ट्रांसफर का एक ऐसा माध्यम है, जिसकी सहायता से आप अपने बैंक अकाउंट से देश के किसी भी बैंक अकाउंट में मनी ट्रांसफर कर सकते हैं। साथ ही साथ अगर आपके पास बैंक अकाउंट नहीं भी है तो भी आपको टेंशन लेने की जरूरत नहीं है। क्योंकि यह एक ऐसा पेमेंट सिस्टम है जिसकी मदद से आप Cash भी जमा कर सकते हैं। हां लेकिन यह बात अलग है, कि Cash के जरिए अगर आप किसी को पेमेंट करते हैं तो ऐसे सिस्टम में आप प्रति ट्रांजैक्शन अधिकतम 50,000 ही जमा कर सकते हैं।

RBI के वेबसाइट के मुताबिक NEFT में ट्रांजैक्शन की सेटलमेंट में आपको कुछ समय लग जाता है यानी कि NEFT की जितनी भी Request बैंक के पास जाती है, बैंक आधे घंटे बाद सारे Request को Approve करता है। उदाहरण के लिए, 12:00pm से 12:30pm के बीच जितनी भी NEFT की Request आएगी, बैंक उसे एक साथ वेरीफाई करेगा फिर Approve करेगा। मान कर चलिए, की अगर आप NEFT के द्वारा पैसे भेजते हैं तो आप जिसे पैसे भेजेंगे, उन तक पहुंचने में लगभग 2 घंटे का समय लग सकता है। और तो और अगर छुट्टियों की बात करें तो छुट्टियों के समय में यह समय और भी बढ़ जाता है।

यानी कि NEFT के तहत पैसे भेजने वाले ग्राहकों को समय को ध्यान में रखकर ही पेमेंट भेजना होता है। NEFT के फायदे की बात करें तो NEFT में ट्रांजैक्शन पर कोई लिमिट नहीं होती है। यानी कि आप ज्यादा से ज्यादा अमाउंट भी आसानी से ट्रांसफर कर सकते हैं।

2. RTGS क्या है? What is RTGS in hindi

RTGS का फुल फॉर्म होता है, रियल टाइम ग्रॉस सेटेलमेंट (Real Time Gross Settlement)। इसका Payment system काफी Fast है। यानी कि RTGS के पेमेंट सिस्टम में ट्रांजैक्शन बैंक द्वारा काफी जल्दी ही Approve किया जाता है और इसके माध्यम से पेमेंट करने पर आधे घंटे के अंदर दूसरे के अकाउंट में ट्रांसफर हो जाता है।

RTGS का सिस्टम Final और irreversible होता है। RTGS के माध्यम से ग्राहक, 2 लाख या उससे ज्यादा का ट्रांजैक्शन कर सकता है। RTGS सुविधा का लाभ, ग्राहक सोमवार से शुक्रवार सुबह 9:00 बजे से शाम 4:30 बजे तक के बीच उठा सकता है और शनिवार के दिन 9:00 बजे से 2:00 बजे के बीच आप यह लाभ ले सकते हैं।

3. IMPS क्या है? What is IMPS in Hindi

IMPS का फूल फॉर्म होता है इमीजिएट पेमेंट सर्विस (Immediate payment service)। IMPS को सन 2010 में लांच किया गया था। इस सिस्टम में समय की कोई पाबंदी नहीं है। आप किसी भी वक्त इसका लाभ उठा सकते हैं। लेकिन इस सेवा के तहत आप अधिकतम दो लाख तक की ही राशि देश के किसी भी बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर सकते हैं।

NPCI  यानी नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया(National Payments Corporation of India), यह सरकार की वह यूनिट है जो देश भर के दुकान, शॉपिंग मॉल, आदि पर लगे Prepaid payment Instrument (PPI) मशीन के द्वारा हो रहे सारे ट्रांजैक्शंस को मॉनिटर और मैनेज करती है और IMPS का संचालन भी NPCI ही करती है।

आपको यह जानकर खुशी होगी कि आप IMPS सेवा का लाभ 24 घंटे में कभी भी उठा सकते हैं और साल के 365 दिन में कभी भी आप इस सेवा का लाभ उठा सकते हैं। IMPS के पेमेंट सिस्टम से मनी ट्रांसफर करने के लिए आपको कुछ अहम जानकारी जैसे, आप जिस व्यक्ति को पैसा भेजना चाह रहे हैं, उनका नाम, अकाउंट नंबर, IFSC कोड इत्यादि सारे Details को ऐड(Add) करने होते है।

4. UPI क्या है? What is UPI in Hindi

UPI का फुल फॉर्म होता है यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (Unified Payment Interface) और इस सेवा को 20 अप्रैल सन 2016 में लांच किया गया था। आपको जानकर खुशी होगी कि अब तक का सबसे फास्ट और एडवांस पेमेंट सिस्टम UPI ही है। अब फोन पर ही ऐसी बेहतरीन गूगल एप्स मौजूद है, जिससे लोगों को पेमेंट करना बहुत ज्यादा आसान हो गया है।

इन सब के माध्यम से आप मोबाइल से ना सिर्फ कुछ सेकेंड के अंदर मनी ट्रांसफर कर सकते हैं बल्कि ऑनलाइन-ऑफलाइन स्टोर्स में online payment करके डिस्काउंट और कैशबैक भी प्राप्त कर सकते हैं।

अगर आप इस सेवा का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको google pay, phonepe, paytm इत्यादि जैसे Apps में से किसी भी एक ऐप को Install कर लेना होगा। अब आपको, आपके अकाउंट  में जो आपका मोबाइल नंबर attached है, उस मोबाइल नंबर से साइन अप करना होगा।

उसके बाद आपको अपना बैंक अकाउंट सेलेक्ट कर लेना होगा और आखिर में आपके ATM कार्ड के नंबर के लास्ट के जो सिक्स डिजिट होते हैं, उनको Add करके MPIN  क्रिएट करना होगा। उसके बाद आपके फोन में यूपीआई(UPI) की सुविधा मौजूद हो जाएगी और उस के माध्यम से आप मोबाइल नंबर या Virtual Private Address (VPA) Enter करके दूसरों के बैंक अकाउंट में पैसे ट्रांसफर कर पाएंगे।

यूपीआई  काफी सुरक्षित सर्विस है, क्योंकि इसके पूरे सिस्टम को आरबीआई  कंट्रोल करता है और सारे मनी ट्रांसफर सिस्टम्स में यूपीआई को सबसे आसान मनी ट्रांसफर सिस्टम माना जाता है। UPI के तहत आप  ज्यादा से ज्यादा 100000 तक की रकम ट्रांसफर कर सकते हैं।

आप चाहे इन मे से किसी भी सिस्टम का इस्तेमाल करे, यह सारे सर्विसेस Robust fund transfer methods के हिसाब से काम करते है। अब आगे यह ग्राहको की जरूरत पर  डिपेंड करता है कि लोग इस सर्विस का इस्तेमाल करें या न करें। अब आइये कुछ मुख्य पहलुओं पर नजर डालते हैं —

अगर आप NEFT का उपयोग करना चाह रहे हैं तो आप इन बातों को जान ले

पहले तो इसके माध्यम से भुगतान, रोज सुबह 8:00 बजे से शाम 7:00 बजे के बीच हर 1 घंटे के अंतराल में 12 बैच में किया जाता था। लेकिन अप्रैल 2016 से आरबीआई के निर्देश पर हर आधे घंटे के  बाद में 23 बेच में लेनदेन का भुगतान किया जाता है।

जैसे कि मान लेते हैं एक बेच सुबह 8:30 बजे क्लियर होगा तो 8:00 बजे से जितनी एनईएफटी की एप्लीकेशन होगी उन सारे एप्लीकेशन का 8:30 बजे निपटारा कर दिया जाएगा और 8:30 बजे के बाद जितने भी एप्लीकेशन जमा होंगे उन सब का निपटारा 9:00 बजे किया जाएगा। इस तरह हर आधे घंटे के बाद में एनईएफटी पर काम किया जाता है। और एक आरबीआई के निर्देश अनुसार अगर आपने NEFT की फॉर्म शाम 5:00 बजे से पहले जमा की है तो आप का भुगतान उसी दिन होगा।

दिन की बात करें तो NEFT सोमवार से शनिवार सुबह 8:00 बजे से शाम 6:30 बजे के बीच में कभी भी करा सकते हैं। रविवार और महीने के सेकंड और फोर्थ शनिवार को बैंक हॉलीडे होता है तो इस दिन एनईएफटी नहीं किया जाएगा।

अब बात करते हैं NEFT Charges के बारे में

बात करें charges की तो आप अगर 10 हजार से ऊपर और एक लाख के नीचे transaction करते हैं तो आपको 5 रुपये का चार्ज लगेगा। अगर एक लाख से ऊपर दो लाख से नीचे transaction करेंगे तो आपको 15 रुपये का चार्ज लगेगा। इसके बाद अगर आप दो लाख से ऊपर और पांच लाख से नीचे ट्रांसफर करते हैं तो आपको 25 रुपये का चार्ज लगेगा। अंत में अगर आप 5 लाख से ऊपर 10 लाख से नीचे तक का ट्रांसफर करते हैं तो आपको 50 रुपये का चार्ज लगगा।

RTGS माध्यम से पेमेंट करने  से पहले जाने यह बातें

RTGS  के सर्विस में Payment, बैंक और ऑनलाइन नेट बैंकिंग दोनों माध्यम से किया जाता है। RTGS के समय की बात करें तो इसमें आप जब एप्लीकेशन देते हैं, उसके 2 या 3 मिनट के अंदर ही आपका काम हो जाता है। दिन की बात करें तो सोमवार से शनिवार सुबह 8:00 बजे से लेकर शाम 6:30 बजे के बीच में आप कभी भी एप्लीकेशन जमा करा सकते हैं लेकिन रविवार और महीने के सेकंड और फोर्थ शनिवार बैंक हॉलीडे पर RTGS नहीं होता है।

अब जान लेते हैं RTGS के Charge के बारे में

2 लाख से 5 लाख के बीच के अगर आप पेमेंट करते हैं तो आपको 25 रुपये का चार्ज लगेगा और अगर आप 5 लाख से 1 लाख तक का पेमेंट करते हैं तो आपको 50 रुपये का चार्ज लगेगा।

अब जानते हैं IMPS के बारे में

IMPS का फायदा यह है कि आप इस सिस्टम में, दिन के पूरे 24 घंटे और हफ्ते के सातों दिन, 24/7 इसका लाभ उठा सकते हैं। यानी कि इस सिस्टम में हॉलीडे के दिन भी, समय पर पैसे ट्रांसफर करने के लिए आप इसका प्रयोग कर सकते हैं।

जैसे कि हमने पहले ही बताया कि इसकी शुरुआत सन 2010 में हुई थी और NPCI इस सर्विस को मैनेज करती है। NPCI ने पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर इस सर्विस को चार बैंक 1. एसबीआई, 2. बैंक ऑफ इंडिया, 3. यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, 4. आईसीआईसीआई बैंक, के साथ शुरू की थी की थी। लेकिन आज यह सुविधा सभी बैंकों के पास मौजूद है।

IMPS सर्विस में लगने वाले Charges

10000 तक की पेमेंट पर आपको ढाई रुपए का भुगतान करना होगा, और अगर आप 10,000 से लेकर एक लाख तक का पेमेंट करते हैं तो आपको 5 रुपये का भुगतान करना होगा और अगर एक लाख रुपए से लेकर आप दो लाख तक की राशि का ट्रांजैक्शन करते हैं तो आपको 15 रुपये का भुगतान करना होगा।

UPI से पेमेंट कैसे करें?

  • यूपीआई पेमेंट करने के लिए आप चाहे तो Vitual Payment Address(VPA) उपयोग कर सकते हैं।
  • उसके बाद आप मोबाइल नंबर का भी उपयोग आप कर सकते हैं।
  • बैंक अकाउंट नंबर और आईएफएससी कोड के माध्यम से आप Payment कर सकते हैं।
  • आधार कार्ड नंबर के माध्यम से भी कर सकते हैं।
  • QR कोड के माध्यम से भी आप Payment कर सकते हैं।

आज आपने क्या सीखा?

आज की पोस्ट NEFT RTGS IMPS UPI Explain in Hindi में हमने, पैसे transfer करने के बेहतरीन तरीकों के बारे में आपको बताया। पैसे ट्रांसफर करने की जरूरत हर किसी को पड़ती है और कोरोना के इस मुश्किल समय में यह काम और भी ज्यादा मुश्किल हो गया है। आज का लेख आप लोगों के लिए निश्चित तौर पर बहुत ही फायदेमंद साबित होने वाला है।

उम्मीद करते हैं यह जानकारी आपको अच्छी लगी। तो अगर यह आर्टिकल आपके लिए Useful रहा तो इसको ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और लाइक करें। अगर आपके मन में कोई सवाल है या सुझाव है तो निसंदेह कमेंट करके हमसे पूछे।

Leave a Comment